(Latest 150+) गिरे हुए लोगों पर शायरी – Gire Hue Log Status

Gire Hue Log Status, Shayari & Quotes – यह लेख गिरे हुए लोगों पर शायरी और उनकी घटियापन एवं चापलूसी पर शायरी के लिए लिखा गया है। अगर आप ऐसे घटिया लोगों पर शायरी खोज रहे है तो यह पोस्ट आपको जरूर बहुत पसंद आएगी।

गिरे हुए लोगों पर शायरी

आंखो से गिरे हुए आंसू और नजरो से गिरे हुए लोग
दोबारा फिर कभी नहीं उठते।

Aakho se gire aashu aur nazaro se gire hue log
Dobara fir kabhi nahi uthate.

गिरे-हुए-लोगों-पर-शायरी

शहद की तरह मीठा बोलने वाले लोग ही अक्सर डंख मारा करते है,
सांप तो यूंही बदनाम है, जहरीले तो अक्सर गिरे हुए लोग होते है।

Shahad ki tarah mitha bolne wale log hi aksar dankh mara karte hai,
Saap to yuhi badnam hai, jaharile to aksar gire hue log hote hai.

आज के जमाने में दिल से साफ होना सबसे बड़ा गुनाह है,
क्योंकि कुछ लोग ऐसे लोगों का फायदा बहुत उठाते है।

Aaj ke jamane main dil se saf hona sabse bda gunah hai,
Kyonki kuch log aise logo ka fayda bahut uthate hai.

पत जड़ से तो हमेशा पते गिरा करते है,
लोगो का नज़रो से गिरने का कोई समय नही होता।

Pat jad se to hamesha pate gira karte hai,
Logo ka nazaro se girane ka kai samay nahi hota.

गिरे हुए लोगो के लिए ना कोई अपना होता है और ना ही भगवान,
सिर्फ वो गिरा हुआ इंसान होता है।

Gire hue logo ke liye na koi apana hota hai aur na hi bhagwan,
Sirf wo gira hua insan hota hai.

एक गलत काम पूरी जिंदगी खराब कर देता है,
एक घटिया इंसान पूरा माहौल बिगड़ देता है।

Ek galat kam puri zindagi kharab kar deta hai,
Ek ghatiya inshan pura mahol bigad deta hai.

कभी भी किसी का पैसा देख कर
उसकी औकात का पता लगाने का नही,
ऐसा इंसान ही अक्सर गिरा हुआ होता है।

Kabhi bhi kisi ka paisa dekh kar
Uski aukat ka pta lagane ka nahi
Esa inshan hi aksar gira huaa hota hai.

आज कल गिरे हुए लोगो को अपनी बुराई
और दुसरो की अच्छाई कभी नजर नहीं आती,
गिरे हुए लोग की फितरत है काटो की तरह चुभना
गलती आप की है जो आप संभल के नही चले।

Aaj kal gire hue logo ko apni burai
Aur dusaro ki achhai kabhi nazar nahi aati,
Gire hue logo ki fitrat hai kato ki tarah chubhna
Galti aap ki hai jo aap sambhal ke nahi chale.

घटिया लोग सभी की लाइफ में होते है,
अक्सर वो हमे एक सिख जिंदगी में जरूर दे जाते है,
ठोकर खाकर ही अपने नजर आते है।

Ghatiya log sabhi ki life main hote hai,
Aksar vo hme ek shikh zindagi main jarur de jate hai,
Thokar khakar hi apne nazar aate hai.

यह पढ़ें: दुश्मन को जलाने वाली शायरी हिंदी में

चापलूसी पर शायरी

गिरे हुए इंसानों को हर चीज दिखाई देती है,
उन्हें सिर्फ अपनी गलती ही दिखाई नहीं देती है।

Gire hue insano ko har cheez dikhai deti hai,
Unhe Sirf apni galti hi dikhai nahi deti hai.

चापलूसी-पर-शायरी

हमारे हालत क्या बदल जाते हे,
लोग अपनी ओकात दिखा देते है।

Hamare halat kya badal jate hai,
Log apni aukat dikha dete hai.

गिरे हुए इंसानों को हर चीज दिखाई देती है,
सिर्फ अपनी गलतियां कभी नही दिखाई देती है।

Zindagi main gire hue inshano ko har cheez dikhai deti hai,
Sirf apani galtiyan kabhi nahi dikhai deti hai.

इस दुनिया में बदलना कोई नही चाहेगा
पर क्या कर सकते है, दुनिया मै गिरे हुए लोग बदलने पर मजबूर कर देते है।

Es duniya main badalna koi nahi chahega
Par kya kar sakte hai, duniya main gire hue log badalne par majbur kar dete hai.

इंसान अपने ही किरदार से बड़ा होता है,
इंसान की अच्छाइयों से ज्यादा कोई परफ्यूम नहीं महकता।

Insan apne hi kirdar se bada hota hai,
Inshan ki achhaiyon se jyada koi perfum nhi mahakta.

घटिया इंसान एक बार जो दिल से उतर गया
फिर ओ कहा गया उसका कोई पता नही
फिर ओ भले दूध से धूल जाए।

Ghatiya inshan ek bar jo dil se utar gya
Fir o kaha gya usaka koi pta nahi
Fir o bhale dudh se dhul jae.

घटिया लोगो की खासियत होती है,
की आप जितना ज्यादा साथ दोगे वह उतने ही ज्यादा तुमको तकलीफे देगे।

Ghatiya logo ki khasiyat hoti hai,
Ki aap jitna jyada sath doge wah utane hi jyada tumko taklife dege.

यह पढ़ें: मुझे गलत मत समझना शायरी

घटिया लोगों पर शायरी

अक्सर ही गलत सोच सोचने वाले और
घटिया हरकत करने वाले इंसान को देखकर,
जमाना दूर से ही अपना रास्ता बदल लेता है।

Akasar hi galt soch sochane wale aur
Ghatiya harkhat karne wale inshan ko dekh kar,
Jamana dur se hi apna rasta badal leta hai.

घटिया-लोगों-पर-शायरी

घटिया इंसान ने एक जख्म ऐसा दिया
कि ना ब्लड गिरा और ना ही आंखो से आशु गिरा
पर नजरो से घटिया इंसान गिरा।

Ghatiya inshan ne ek jakhm esa diya
Ki na blade gira aur na hi aankho se aashu gira
Par nazaro se ghatiya inshan gira.

अक्सर गलती से बोला गया एक लफ्ज ही
अच्छे अच्छे रिश्तो में भी नफरत उत्पन्न कर देते है,
बनना हे तो किसका हम दर्द बनो तकलीफे तो गिरे हुए लोग भी देते है।

Aksar galti se bola gya ek lafj hi
Achhe achhe risto main bhi nafrat utpann kar dete hai,
Banna hai to kisika ham bano taklif to gire hue log bhi dete hai.

जिंदगी में मझे घटिया लोग मिलते रहेंगे,
जो घटिया हरखत करते रहेंगे,
सांसे चलती रहेगी जख्म मिलते रहेंगे,
आंसू आंखो से यूं ही निकलते रहेंगे।

Zindagi ke majhe ghatiya log milte rahege
Jo ghatiya harkhat karte rahege,
Sanshe chalti rahege jakhm milte rahege
Aashu ankho se yuhi nikalate rahege.

जरूरी तो नहीं की जो अच्छी बात करता है,
वह अच्छा हो ना सूरत बुरी ना इंसानियत बुरी गिरी तो घटिया लोगो की नियत गिरी।

Jaruri to nahi ki jo achhi bat karta hai,
Wah achha ho na surat buri na inshaniyat buri giri to ghatiya logo ki niyat giri.

पैसे से कुछ नही होता
इंसान का किरदार दमदार होना चाहिए
चेहरे से कुछ नही होता दिल का साफ होना चाहिए
चेहरे से पता कहा चलता है, इंसान कैसा है।

Paise se kuchh nahi hota
Inshan ka kirdar damdar hona chahiye
Chehare se kuchh nahi hota dil ka saf hona chahiye,
Chahare se pta kaha chalta hai, insan kaisa hai.

आपकी सोच पर निर्भर करता है, यदि तुम्हारी नियत और मकसद सही हो,
तो हमेशा भगवान भी किसी न किसी रूप मै आपकी मदद जरूर करते है।

Aapki soch par nirbhar karta hai, yadi tumhari niyat aur maksad sahi ho
To hamesha bhagwan bhi kisi na kisi rup main aapki madad jarur karte hai.

यह पढ़ें: दुश्मन को जलाने वाली शायरी हिंदी में

Add a Comment

Your email address will not be published.